प्रश्न उत्तम है,कार्य सिद्ध होगा

माता सीताजी अपनी सखियों के साथ अपने उद्यान में बने देवी गिरजा के मन्दिर में पूजा करने गयीं थीं,भगवान राम उनके लघु भ्राताश्री लक्षमण जी के साथ बगीचे की पुलवारी देखने गये थे,सखियों के साथ माता सीताजी ने भगवान राम की मनोहर छवि को निहारा,और देवी गिरजा से प्रार्थना की,उनकी मूर्ति से माला नीचे खिसक पडी,और आकाशवाणी हुई कि," सुनु सिय सत्य अशीष हमारी । पूजहिं मनोकामना तुम्हारी ॥" आपने सच्चे मन से अपने प्रश्न को किया है,समय पूरा होने में अब देरी नही है,आपका कार्य सफ़ल होगा,भगवान श्री राम आपकी रक्षा करें.

Unless otherwise stated, the content of this page is licensed under Creative Commons Attribution-ShareAlike 3.0 License