श्री पवन सिंह राठौर

जन्म समय और स्थान और लगन आदि.

आपकी जन्म तारीख 12 April 1979,Time - 15:58:00 है,और जन्म स्थान समानकटरा जिला मैनपुरी है.आपकी लगन सिंह है और सूर्य लगन से आठवें भाव में विराजमान है,चन्द्र राशि कन्या है,और सूर्य से सप्तम में विराजमान है.लगन में शनि और राहु की स्थिति है,शनि बक्री है,सप्तम में शुक्र केतु विराजमान है,चन्द्र राशि से शुक्र और केतु सप्तम मे है,सूर्य का साथ मंगल और बुध के साथ है.
आपकी कुन्डली में काल सर्प दोष विद्यमान है,इस कालसर्प दोष का नाम "अनन्त" है,इस काल सर्प दोष का प्रभाव मानसिक कष्ट को देता है,किसी भी कार्य के पूरा नही होने पर यह निरासा देता है,उपाय के लिये गोमेद और लहसुनिया का पेन्डल पहिनना चाहिये,घर के अन्दर नागफ़नी का पेड लगाना चाहिये और पत्नी के किसी भी प्रकार के कष्ट के लिये उसके बजन के बराबर के जौ बहते हुए पानी में बहाना चाहिये.इस कालसर्प दोष के प्रभाव से बाहर केवल चन्द्र है,इस कारण से आपको काम के लिये बाहर जाना पडेगा,लेकिन गुरु का बारहवें भाव में जाने और चन्द्रमा पर युति होने के कारण विदेश जाने के चांस मिलते है,विदेश जाने के लिये आपको एक सितम्बर दो हजार तेरह से समय चालू होता है.वर्तमान में (दिनांक 25 May 2008) गुरु और बुध की दशा चलने के कारण,पुत्री आने के योग बन रहे है,लेकिन मंगल का उपाय लाल रंग का धागा पत्नी के सीधे हाथ में बान्धने से पुत्र के योग बन जाते है.हनुमानजी की भक्ति के कारण अचानक गुस्से के कारण शनि और केतु की सामजस्यता नही बैठ पायेगी,सूर्य (बडा भाई ) और मंगल (खुद) के कारण शुक्र पत्नी का प्रभाव कम ही रह पायेगा,गाय पालने से और गाय को पत्नी के द्वारा गाय को गुड खिलाने से बीमारियों में राहत मिलती रहेगी.

Unless otherwise stated, the content of this page is licensed under Creative Commons Attribution-ShareAlike 3.0 License