देवोपासना से ग्रह कष्ट निवारण

देवी देवता हर समाज परिवार देश विदेश सभी में पूजे जाते है कोई किसी प्रकार से और कोई किसी प्रकार से अपनी श्रद्धा को अपनाता है,जैसे जैसे धर्म का वर्गीकरण होता गया लोग अपने अपने धर्म में में चलते चले गये। कुछ अपने को धर्म से दूर भी रखने लगे कारण उनका एक ही था कि किसी भी कारण से किसी का अहित नही करना है और जब वे किसी का अहित नही करेंगे तो किसी का कुछ बिगडेगा भी नही।

Unless otherwise stated, the content of this page is licensed under Creative Commons Attribution-ShareAlike 3.0 License